Saturday, December 31, 2016

Your First Cry - मां की नजर से

It was your first cry, that made my day, 
I forgot all the pain, to have your ray, 

You were there in my head n' heart, 
Now you're the answer of all my pray, 

Felt your moves inside for months, 
Tried keeping you well all the way, 

Love at first sight was a phrase only, 
Yes, it does happen, lifelong it stay, 

Just promoted with a title of mother, 
Loving you infinite is what I can say, 

Wednesday, March 23, 2016

पहली नजर...

लफ्ज़ महके हुए, जिस्म तरसा हुआ, आँखें यूँ मुस्कुराई, फना मैं हुआ... 
दौर ऐसे ही थे, जिन्दगी के मेरे, तुम जो आई तो जन्नत, जहां ये हुआ... 

तय था किया, करना है मना, पर सिलसिला यूँ चला, चलता मैं गया... 
एक मुलाकात में, बात ही बात में, जो मैंने जाना उसे, मजा आ गया... 

दस्तक दिल में, बस एक पल में, ख्वाब देखे हजारों, और खोया रहा... 
शाम का इंतजार, दिल है बेकरार, फिजा में खुशबू, महक आँगन रहा... 

तुम हमारे हुए, हम तुम्हारे हुए, सब अचानक हुआ, वक्त थम सा गया... 
नींद आती नहीं, रात जाती नहीं, सारा आलम है कहता, अब तु गया... 

लकीरें सर पर, सुकून दिल में, मैं भी किसी का, आज आखिर हुआ... 
दो बरस पहले, तुम थे जो मिले, बात कल की सी है, दिल ताजा हुआ... 

Friday, May 23, 2014

साथ हो एक तुम्हारा...

वक़्त कुछ पीछे चला जाये, और हम में तुम मिल जाये, 
न मैं कभी तुमसे दूर जाऊँ, न ही कभी ऐसे हालात आये,

अजनबी थे जब मिले हम, करीब तुमसे यूँ कैसे हुए हम, 
अब सोचता हूँ मेरा दिल क्यूँ, कैसे बे-पनाह तुमको चाहे, 

बस साथ हो एक तुम्हारा, इन शुल-अंधेरों के रास्तों पर,
हाथों में हाथ हो तेरा और, साथ जीना भी दिल को भाये, 

उम्मीद कहूँ या गुजारिश, तुम ख्वाब हो या हो हक़ीक़त, 
बस बे-इंतेहा सी मोहब्बत, तुम ही जिंदगी में मेरी लाये, 

जब गुजरी थी तेरी बाहों में, ये मेरी सुबहें और मेरी शामें, 
दिल तब भी किया वक़्त रोकूँ, पर वक़्त कौन रोक पाये, 

क्या ये इश्क़ एक भरम है, या दौर-ए-जिंदगी का मरहम, 
मौत भी अगर कभी आये, जुदा ना कर सके हमारे साये, 

NYSH निशान्त