Friday, September 08, 2006

सिर्फ एक जिंदगी...

खुदा की बदौलत मिली एक जिन्दगी...
जिन्दगी में सेंकड़ों ख़्वाब...
ख़्वाबों की हज़ारों मंजिलें...
मंजिलों को जाते लाखों रास्ते...
और उन रास्तों पर अकेला मैं...

Khuda Ki Badolat Milli Ek Jindagi…
Jindagi Mein Senkadon Khwaab…
Khwaabon Ki Hajaaron Manzilein…
Manzilon Ko Jaate Lakhon Raaste…
Aur Unn Raaston Par Akeila Mein…
मैं भी तनहा...
रास्ते भी तनहा...
मंजिलें भी तनहा...
ख़्वाब भी तनहा...
और जिंदगी भी...

Mein Bhi Tanha…
Raaste Bhi Tanha…
Manzilein Bhi Tanha…
Khwaab Bhi Tanha…
Aur Jindagi Bhi…

ना जाने...

कब जिन्दगी की शाम हो जाये...

कितने ख़्वाब अधूरे रह जाये...

कौनसी मंज़िल खफा हो जाये...

कहाँ रास्ता मेरा खो जाये...

Naa Jaane…
Kab Jindagi Ki Shaam Ho Jaaye…
Kitne Khwaab Adhure Reh Jaaye…
Kaunsi Manzil Khafa Ho Jaaye…
Kahan Raasta Mera Kho Jaaye…

NYSH निशांत

No comments: