Friday, February 09, 2007

लम्बा है सफ़र...

लम्बा है सफ़र और लम्हें मिले चन्द,
कौन सा रास्ता मंज़िल के लिए करु पसन्द।

Lamba Hai Safar Aur Lamhein Mile Chand,
Kaun Sa Rasta Manzil Ke Liye Karu Pasand.


यूं तो कई लोग हैं राहों में मगर,
बिखर जाना है सबको मोड़ पे हर-चन्द।

Yun Tau Kai Laug Hai Raahon Mein Magar,
Bikhar Jana Hai Sabko Modd Pe Har-Chand.

ना ही थकान आये ना ही दिल बहक पाये,
ऐसा हो मेरा जूनून और होसले हो बुलंद।

Naa Thakaan Aaye Naa Hi Dil Behak Paaye,
Aisa Ho Mera Junoon Aur Hosley Ho Booland.

नायक बनना है मुझे इस जमाने में,
चाहता हूँ रहूँ मैं हर वक़्त पाबन्द।

Naayak BanNa Hai Mujhe Iss Jamaane Mein,
Chahta Hun Rahun Mein Har Waqt Paa-Band.

या रब ! एक एहसान और कर दे मुझ पर,
राह दिखा मुझे जब करुं मैं आंख बंद।

Yaa Rabb ! Ek Ehsaan Aur Kar De Mujh Par,
Raah Dikha Mujhe Jab Karu Mein Aankh Band.

निशांत NYSH

1 comment:

kavita jain said...

Mind blowing ... :)
Still i will ask how do u play with the words...